बोस आज भी है बॉस, सीएस की कुर्सी की कहानी इसी के इर्द गिर्द।


1
12 shares, 1 point

– दो सीएस पर लग चुका है डीएमएफ मद से हुई खरीदी में पैसे के हेरा-फेरी का आरोप
– अस्पताल सलाहकार रहे बोस पर है दस्तावेजों के गायब करने का आरोप, थाना में हुई थी शिकायत

दंतेवाड़ा। जिला अस्पताल की सीएस की कुर्सी विवादों में है। डीएमएफ के पैसे में हो रहे बंदरबांट के पीछे मास्टमाइंड कोई और ही रहा है। फर्जी दस्तावेजों से नौकरी करने के आरोप मे सेवा से प्रथक कर दिया गया है। लेकिन इसके कारनामों का काला साया सीएस की कुसी पर भारी पड़ रहा है। एसपीएस शांडिल्य १५ लाख रुपए की जांच के घेर में रहे। इस जांच में क्या हुआ आज तक किसी को पता नहीं चला। अब नया बखेड़ा शासन से नियुक्त हुए डॉ एम के नायक पर खड़ा है। इनको काम में लापरवाही के चलते हटाया गया। इसके बाद सीएस नायक ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया। वहां यचिका पर सुनवाई के बाद फैसला आया कि पद पर दोबारा बैठाया जाए। ४५ दिनों के अंदर ऐसा किया जाए। लेकिन उन पर भी जिला प्रशासन ने २६ लाख रुपए की दवा में हेरा-फेरी में जांच बैठा दी है। इसकी रिपोर्ट जल्द ही कलक्टर को सौंपी जाएगी। इस कहानी के पीछे एक बड़ा तथ्य सामने आ रहा है। अस्पताल सलाहकार रहे अशीष बोस ने दवा खरीदी के दस्तावेजों को गायब किया है। जनवरी में नौकरी से प्रथक होने के बाद दसतावेजों को गायब करने का आरोप है। इसकी शिकायत थाना में की गई थी। उस पत्र के सामने आने के बाद पूरी तस्वी ही बदल गई है। हालांकि खुद को अशीष बोस पाक-साफ बता रहे है। उनका कहना है कि पहले उनकी नौकरी साजिश के तहत गई। उन्होंने कोई दस्तावेज गायब नही किया है। खरीद-फरोख्त से जुड़े कागजात कार्यालय में ही है।
कलक्टर की जांच के आदेश के पहले हुई थी बोस की शिकायत कलक्टर सौरभ कुमार ने पत्र क्रमांक ५४२४ के माध्यम से ७/८/२०१८ को दवा खरीद फरोख्त मामले में जांच का आदेश दिया है।

इस पत्र पर साक्ष्यों और सबूतों को एकत्र करने के लिए कर्मचारियों को नोटिस जारी किए जा रहे हैं। इनमें से एक पत्र २२/११/२०१८ को जारी हुआ है। अब दूसरा पहलू ये है आशीष बोस पर आरोप जून में लगया गया था। उस पर आरोप था कि कार्यालय की चाबी नहीं दे रहा है। इस बात की शिकायत तत्कालीन सीएस एम के नायक ने कलक्टर से मौखिक की थी।

कलक्टर से शिकायत के बाद एसडीएम ने कार्यालय का ताला तुड़वा कर दस्तावेज निकलवाए। इन दस्तावेजों मे अनिल मेडिकल एजेंसी धमतरी से खरीदी गई दवाओं के दस्तावेज गायब थे। इसके बाद थाना कोतवाली में शिकायत दर्ज करवाई गई। यह तारीख ८ जून २०१८ है। सावलों के घेरे में जांच की तारीख और बोस की करतूत है।

सीएस नायक के मामले में जांच चल रही है। जल्द ही इसकी रिपोर्ट कलक्टर को सौंप दी जाएगी। सभंवता सोमवार तक जांच पूरी हो जाएगी। जांच में क्या हो रहा है यह अभी नही बताया जा सकता है।

-ज्वाइंट कलक्टर जी आर राठौर, जांच अधिकारी


Like it? Share with your friends!

1
12 shares, 1 point

What's Your Reaction?

hate hate
2
hate
confused confused
2
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Choose A Format
Story
Formatted Text with Embeds and Visuals