आसमां से जमीं तक गड़ेगी सफल व सुरक्षित चुनाव कराने के लिए नजर।ड्रोन करेगा वॉच, घटना फ्री चुनाव कराने का प्रयास।

60 अतिरिक्त कंपनियों का दंतेवाड़ा में होगा डेरा, पांच कंपनियां पहुंची।


0

बस्तरक्रान्ति दंतेवाड़ा।

 दक्षिण बस्तर की दंतेवाड़ा विधान सभा का घटना फ्री चुनाव कराना अपने आप में एक बड़ी सफलता होगी। नक्सलवाद का परचम है। लाल गलियारों में गोलियों की तड़तड़ाहट और विस्फोटों की गूंज ही चुनावों में सुनाई देती है। अहम बात यह है कि घटना फ्री चुनाव बस्तर में तीन दशक से कभी हुआ ही नहीं है। छग के लाल गलियारों में चुनाव किस तरह से होता है, न्यूटन मूवी में भी दर्शाया गया है। इस मूवी में बताया गया है कि नक्सल इलाके में मतदान कर्मियों की क्या स्थिति होती है? 

हैलीकॉप्टर का भी इस बार इस्तेमाल नहीं होगा। इसके बावजूद 9 किलो की वजाय 17 किलो वजन भी मतदान दल को लेकर चलना होगा। इन सभी समस्याओं के बीच अधिकारियों का मनोबल कमजोर नहीं है। उन्होंने साफ कहा है कि  आसमां से जमीं तक नजर गड़ी हुई है। हाईवे से लेकर साल सागौन के जंगलों पर पेहरा होगा। 70 अतिरिक्त कंपनियों दंतेवाड़ा पहुंचेगी।

 फिलहाल अभी से फोर्स जिस तरह से डेरा डाल रही है, इस बात से पता  चलता है कि चुनाव आयोग हर हाल में सुरक्षित और सफल चुनाव कराने की तैयारी में जुटा है। आसमां से जमी तक नजर गड़ाने का मास्टर प्लान तैयार है। कदम-कदम पर जवानों की तैनाती होगी। अतिरिक्त 60 कंपनियां मांगी गई है। पांच कंपनियों ने बुधवार को दंतेवाड़ा में डेरा डाल दिया है। पुलिस अधीक्षक डॉ अभिषेक पल्लव ने कहा है कि हर हाल में प्रयास रहेगा कि घटना फ्री चुनाव हो। इसके लिए पूरी रणनीति बन चुकी है। सीआरपीएफ की पांच कंपनियां जिले में पहुंच चुकी। दूसरी पांच कंपनियां गुरुवार देर रात तक पहुंचेगी और फिर पांच कंपनियां शुक्रवार या शनिवार सुबह को अपनी आमद जिले में देगी। इन कंपनियों की तैनाती हाइवे और नगरीय इलाकों में होगी। दो दिनों के विश्राम के जवानों की तैनाती शुरू हो जाएगी। 

भाषा-बोली को समझाने के लिए लोकल फोर्स करेगी सहयोग:

 पुलिस अधिकारिायों ने बताया कि चुनाव कराने पहुंच रही फोर्स को डीआरजी और जिला बल के जवानों का सहयोग दिया जाएगा। उनके मार्गदर्शन में लगेगें और एरिया से परिचित कराएंगे। भाषा- बोली की समस्या में भी यही जवान बाहर से आने वाली फोर्स की मदद करेंगे।

सीसीटीवी कैमरे के साथ गोपनीय सैनिकों की तैनाती अभी से: नवरात्रि और चुनावी माहौल में नगरीय इलाकों में भी सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। नगर सीसीटीवी कैमरे के साथ गोपनीय सैनिकों की तैनाती की गई है। इनमें कुछ आत्मसमर्पित नक्सली भी हैं। ये महिला- पुरुष सैनिक वर्दी और सादी वर्दी में मंदिर परिसर सहित जिले के हाट- बाजार, सार्वजनिक स्थलों के अलावा जंगल में भी नजर लगाए हुए हैं। 


Like it? Share with your friends!

0

What's Your Reaction?

hate hate
0
hate
confused confused
0
confused
fail fail
0
fail
fun fun
0
fun
geeky geeky
0
geeky
love love
0
love
lol lol
0
lol
omg omg
0
omg
win win
0
win

0 Comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Choose A Format
Story
Formatted Text with Embeds and Visuals